अयोध्या को एक आकर्षक पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जाए: योगी

अयोध्या को एक आकर्षक पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जाए: योगी
Publish Date:15 June 2018 12:20 PM

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अयोध्या को एक आकर्षक पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जाए और पंचकोसी, चौदहकोसी और चौरासीकोसी परिक्रमाओं के मार्गों को सुव्यवस्थित बनाने के निर्देश दिए है।
योगी ने गुरूवार को शास्त्री भवन में केन्द्र सरकार की‘स्वदेश दर्शन योजना’के तहत रामायण सर्किट थीम, अयोध्या के निर्माण कार्यों की प्रगति की समीक्षा के लिए आयोजित प्रस्तुतिकरण को देखते हुए निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि अयोध्या के सभी पौराणिक स्थलों का सौन्दर्यीकरण किया जाए। खुले क्षेत्रों में जगह-जगह पर वनीकरण कराया जाए।
सरयू नदी की ड्रेजिंग करवाने के निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि नदी का जल एकदम स्वच्छ होना चाहिए ताकि स्नानार्थियों को कोई असुविधा न हो। सरयू में नालों का पानी आने से रोकने की व्यवस्था की जाए। उन्होंने अयोध्या शहर में बिजली के तारों की अण्डरग्राउण्ड केबलिंग करने के निर्देश देते हुए कहा कि अनावश्यक खंभों को हटाया जाए, ताकि रास्ते के व्यवधान खत्म हों और आवागमन सुविधाजनक हो सके। 
मुख्यमंत्री ने कहा कि पर्यटकों के बाधारहित आवागमन के ²ष्टिगत अयोध्या के सभी मार्गों का दृढ़ीकरण एवं चौड़ीकरण तथा मरम्मत जो भी आवश्यक हो किया जाए। अयोध्या की साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाए। पर्यटकों के लिए पेयजल, शौचालय, विश्रामालय, धर्मशालाओं इत्यादि की व्यवस्था की जाए। उन्होंने अयोध्या में यात्रियों की सुविधा के लिए पर्यटन आवास गृह, धर्मशालाओं, विश्रामालय इत्यादि के निर्माण के निर्देश देते हुए कहा कि सभी निर्माण कार्यों में स्थानीय स्थापत्य की झलक दिखनी चाहिए। 
उन्होंने नागेश्वरनाथ मंदिर तक के पहुंच मार्ग का नवीनीकरण एवं दृढ़ीकरण करने के निर्देश भी दिए।  योगी ने पर्यटन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से अयोध्या में अच्छे होटलों के निर्माण को बढ़ावा देने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार अयोध्या को प्रमुख पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने के लिए कटिबद्ध है। इसके लिए सभी आवश्यक कदम उठाए जाएंगे। उन्होंने अयोध्या में इस वर्ष होने वाले दीपोत्सव के अवसर पर आकर्षक आतिशबाजी की व्यवस्था करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कुंभ-2019 के मद्देनजर अयोध्या, चित्रकूट, इलाहाबाद तथा अन्य महत्वपूर्ण स्थानों को चार लेन मार्गों से आपस में जोडऩे के निर्देश दिए। 

 

संबंधित ख़बरें