लाभ के पद का मामलाः दिल्ली हाईकोर्ट से आप के 20 विधायकों को बड़ी राहत

लाभ के पद का मामलाः दिल्ली हाईकोर्ट से आप के 20 विधायकों को बड़ी राहत
Publish Date:23 March 2018 05:38 PM

नई दिल्ली: दिल्ली हाई कोर्ट ने आप विधायकों को अयोग्य ठहराने वाली अधिसूचना को कानून की नजर में गलत बताया और उनकी याचिका वापस निर्वाचन आयोग के पास भेजी जो इस पर नए सिरे से सुनवाई करेगा। हाई कोर्ट ने कहा कि प्राकृतिक न्याय का उल्लंघन किया गया और आप विधायकों को अयोग्य करार देने से पहले उन्हें मौखिक रूप से नहीं सुना गया।  कोर्ट के फैसले के बाद आप विधायक अलका लांबा ने कहा कि हम विधायक बने रहेंगे। दिल्ली सरकार को गिराने की साजिश नाकाम हो गई है। न्यायमूर्ति संजीव खन्ना और न्यायमूर्ति चंद्र शेखर की पीठ ने 28 फरवरी को इस मामले में सुनवाई पूरी करने के बाद कहा था कि इस पर फैसला बाद में सुनाया जाएगा। इस मामले में अदालत ने विधायकों, चुनाव आयोग और अन्य पक्षों की दलीलें सुनी थीं। विधायकों ने पीठ से यह भी आग्रह किया था कि इस मामले को नए सिरे से सुनने के निर्देश के साथ वापस आयोग के पास भेजा जाए। इस मामले में विधायकों की शुरू से ही दलील थी कि कथित लाभ के पद को लेकर उनकी विधायकी रद्द किए जाने का चुनाव आयोग का फैसला असंवैधानिक है। विधायकों का ये भी कहना है कि आयोग ने उन्हें अपना पक्ष रखने का मौका नहीं दिया। उन्होंने उच्च न्यायालय में उनकी अयोग्यता को उस समय चुनौती दी थी जब राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आयोग की सिफारिशों को अपनी मंजूरी दे दी थी। 
 

संबंधित ख़बरें