प्रधानमंत्री मोदी की इच्छा है कि हर गांव मजबूत बने: CM योगी

प्रधानमंत्री मोदी की इच्छा है कि हर गांव मजबूत बने: CM योगी
Publish Date:03 June 2018 02:15 PM

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को हरदोई में ग्राम स्वराज योजना के अंतर्गत प्रधानों को संबोधित करते हुए उन्हें विकास कार्य किस तरीके से कराएं, उसके टिप्स दिए। साथ ही विकास की योजनाओं में भ्रष्टाचार खत्म होने का दावा करते हुए राजीव गांधी को याद किया।
राजीव गांधी को किया याद 
योगी ने कहा कि आज से 30 वर्ष पहले देश के प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीव गांधी ने कहा था कि हम सौ रुपया भेजते हैं और जमीन पर केवल 10 रुपया पहुंचता है। उनकी लाचारगी दिखाई देती थी, लेकिन आज आप के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हैं। मोदी ने कहा सौ रुपया भेजेंगे तो सौ रुपया नीचे जाएगा और गांव तक पहुंचेगा।
प्रधानमंत्री की इच्छा हर गांव बने मजबूत 
उन्होंने कहा कि कुछ ग्राम प्रधान ऐसे भी होंगे जो लोग पहले गांव में विकास के लिए पैसा लाने के लिए उनको जाना पड़ता था और उनको वहां पर कुछ पैसा देना पड़ता था। तब गांव के लिए पैसा आता था। अब आपको पैसा सीधे आपके खाते में आ रहा है और आज शासन की योजना का लाभ सीधे लाभार्थी को मिल रहा है। यानी बीच का जो एजेंट था वह गायब हो गया है। जब भी दलाल गायब होगा तो उसको परेशानी तो होगी ही क्योंकि उसकी दलाली बंद हो जाएगी। यह कार्य डीबीटी के माध्यम से देश के यशस्वी प्रधानमंत्री ने किया है। प्रधानमंत्री मोदी की इच्छा है कि हर गांव मजबूत बने।
ग्राम प्रधानों के ऊपर महत्वपूर्ण जिम्मेदारी
उन्होंने कहा कि समाज के अंतिम व्यक्ति को योजनाओं का लाभ मिलना जरुरी है। बीजेपी सरकार हर इंसान का विकास करना चाहती है। ग्राम प्रधानों को हिदायत देते हुए उन्होंने कहा कि वह निष्पक्षता से काम करें। ग्राम प्रधानों के ऊपर महत्वपूर्ण जिम्मेदारी है। सरकार भी ग्राम प्रधानों को पूरा सहयोग देगी। सरकार गांव के विकास में पारदर्शिता लाने में जुटी हुई है। प्राथमिकता के आधार पर हर गांव का विकास हो रहा है। सीधे-साधे और भोले-भाले लोगों को विकास की योजनाओं से जोड़ना महत्वपूर्ण है। चालाक और जागरुक लोग योजनाओं का लाभ जल्द ही हासिल कर सकते हैं। 
प्लास्टिक के खिलाफ लड़ाई में साथ आए प्रधान: योगी 
मुख्यमंत्री ने विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर प्रधानों का आवाहन किया कि वह प्लास्टिक के खिलाफ लड़ाई में साथ आए। उन्होंने कहा कि अभी 5 जून को पर्यावरण दिवस प्रारंभ होने जा रहा है। पर्यावरण दिवस के दिन 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस के दिन प्रदेश के नदियों को प्रदेश के नालों को सार्वजनिक स्थल को प्लास्टिक से मुक्त करने के अभियान में हम सब सहभागी बने।

 

संबंधित ख़बरें