धर्मकर्म

  • चैत्र नवरात्रि: दुर्गा के 32 नाम के मंत्रों का जाप करना है लाभकारी

    चैत्र नवरात्रि में भगवती दुर्गा के 32 नाम के मंत्रों का जाप करना अत्यंत फलदायी माना जाता है। चैत्र नवरात्रि में नौ दिनों तक महत्वपूर्ण रीति-रिवाजों के साथ देवी दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है। देवी के नौ स्वरूपों में क्रमशः शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कुष्मांडा, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी और सिद्धिदात्री हैं। इस दौरान आदि शक्ति के नौ रूपों की पूजा की जाती है। प्रथम दिन से लेकर नवरात्रि के अंतिम दिन तक क्रमशः नौ देवियों का पूजन और कन्या पू...

  • नवदुर्गा का सातवां स्वरूप है मां कालरात्रि, जाने इनकी उपासना से क्या लाभ हैं ?

    माँ कालरात्रि नवदुर्गा का सातवाँ स्वरुप हैं , जो काफी भयंकर है. इनका रंग काला है और ये तीन नेत्रधारी हैं. माँ कालरात्रि के गले में विद्युत् की अद्भुत माला है. इनके हाथों में खड्ग और काँटा है और इनका वाहन है -गधा. परन्तु ये भक्तों का हमेशा कल्याण करती हैं , अतः इन्हें शुभंकरी भी कहते हैं. इस बार माँ के सातवें स्वरुप की पूजा 24 मार्च को की जायेगी.    इनकी उपासना से क्या लाभ हैं? - शत्रु और विरोधियों को नियंत्रित करनेके लिए इनकी...

  • दशामाता व्रत 2018: ऐसे करें व्रत और पूजा, कभी नहीं आएगी घर में दरिद्रता

    शास्त्रों में दशामाता व्रत का अत्यधिक महत्व और विधान है। शास्त्रीय मान्यता के अनुसार दशामाता व्रत और पूजन करने मनुष्य की विपरीत भी परिस्थिति भी अनुकूल हो जाती है। दशमाता व्रत चैत्र कृष्णपक्ष दशमी को किया जाता है। इस बार दशामाता व्रत पूजा तथा व्रत 12 मार्च 2018 (सोमवार) को है। चैत्र कृष्ण की दशमी के दिन महिलाएं दशामाता का व्रत रखतीं हैं। दशामाता व्रत मुख्यरूप से घर की दशा ठीक होने के लिए किया जाता है।दशामाता व्रत के दिन महिलाएं कच्चे सूत का डोरा लाकर डोरे की कहा...